Wednesday, December 17, 2008

मै सर्व शिक्षा अभियान

भाई मै सर्व शिक्षा अभियान चला रहा हूँ ।
अनाज की बोरी ढो ढो के घर ला रहा हूँ ।
बच्चे भी बहुत अधिक संख्या में आ रहे हैं ।
किताब की जगह थाली बसते में भरकर ला रहें है ।
बच्चे रोज अधिक मात्रा में आ जाते है ।
लंच तक स्कूल में रहते हें खा के घर जाते हें ।
सरकार ने बच्चे को खाने के लिए बहुत कुछ दिया ।
अच्छी चीजे घर और बचा हुआ हमने बच्चों को दिया।
आख़िर हम भी सभ्य शिक्षक जो ठहरें ।
कभी कभाल चेकिंग आ जाती है ।
चाबल की बोरी को पानी में डूबा दी जाती है।
आखिर वो भी हमारी तरह ही इन्शान है ।
नोटों पर बिकता उनका भी ईमान है ।
इसलिए तो साफ बच जाते हें ।
आखिर वो भी हमारा दिया ही खाते है ।
गरीब बच्चों की किसे है परवाह ।
थोड़ा सा चावल खाकर करेंगे वाह वाह ।

11 comments:

अखिलेश सिंह said...

bhai lagta hai in bachho ki roti kha kar hi aap mota rahe hain...

अखिलेश सिंह said...
This comment has been removed by a blog administrator.
राजीव करूणानिधि said...

वाह वाह...वाह वाह... क्या कमाल की कविता है.

Amit K. Sagar said...

यथार्वादी कटाक्ष करती रचना. जारी रहें. आभार.

Jyotsna Pandey said...

saty ko sabhi ke samane rakhane ke liye ......dhanyawaad

मनुज मेहता said...

क्या खूब लिखा है आपने, बहुत गहरा, बहुत भावपूर्ण.

परमजीत बाली said...

अच्छी रचना है। आज कल यह सभी जगह नजर आ रहा है।गरीबों का नाम ले कर खाने वाले नीचे से ऊपर तक फैले हुए है।
बढिया लिखा है।बधाई।

रश्मि प्रभा said...

sahi chitran kiya hai.....bachchon ka naam hai,warna fikra kise hai !
bahut sadhe dhang se kataksh kiya hai............

Vijay Kumar Sappatti said...

bhaiyaa, main aaj pahli baar aap blog mein aaya hoon , ye kavita padkar man ro pada ,... yaar is desh mein kya yahi sab hote rahenga ...

aapko badhai

Pls visit my blog for new poems..

vijay
http://poemsofvijay.blogspot.com/

seema gupta said...

गरीब बच्चों की किसे है परवाह ।
थोड़ा सा चावल खाकर करेंगे वाह वाह
" चित्र और शब्द दोनों ने ही भावुक कर दिया"
Regards

Harman said...

bahut hi khoob..
Please visit my blog..

Lyrics Mantra
Ghost Matter