Saturday, December 6, 2008

राजनीती शहीदों पर .....

झारखण्ड में फिर शहीद हुए जवान ।

रह गए जूते और खून के निशान ।


चार कन्धों पर शहीदों का शव उठाइए ।


श्रधांजलि में फूल माला चढाइए।


सम्मान में दो चार गोली भी चलाइये


पहुँच जायेगी नेताओं की टोली ।


एक लाख जिन शहीदों ने खाई गोली ।


फिर माइक पर नेता सुनायेंगे भाषण ।


हम मओवादिओं पर लगाम लगायेंगे ।


मओवादिओं को अंधेरे में बारूद पहुचायेंगे ।


हम नेता है जान की नही है फिकर ।


झारखण्ड की ६० फीसद पुलिस है हमारे घर ।


वैसे भी मओवादिओं को हम ही बनाते हैं ।


चुनाव में वही तो हमें जीतते हैं ।


1 comment:

anu julka said...

Thanks! fr visiting the bl;og and appreciating ! thanx alot !